राहगुज़र भी तेरी

मेहर भी तेरी

तू भी मेरा

मैं भी तेरी

अभी तो लुटा हूँ तेरे दर से

याद भी तेरी

गिरहबान भी तेरा

अगर हम गुज़र गए मिले बिना

याद भी तेरी

अफसोस भी तेरा

तूने बुलाया दर पे अपने

मिलन भी तेरा

वियोग भी तेरा

आँसू भी तेरे

प्यार भी तेरा

तू एक बार गले तो लगा

सांस भी तेरी

सपने भी तेरे

धड़कन भी तेरी

यार भी तेरा

सब कुछ में तू

मुझ में भी तू

उस में भी तू

तू भी मैं

में भी तू

याद न आना घड़ी घड़ी

मिल जा मुझ में पानी की तरह

नदी भी तू

समुद्र भी तू

सुबह भी तू

शाम भी तू

सहर भी तू

कभी तो दीदार कर ले

मैं भी तू

तू भी मैं